No icon

दिल्ली में सरकार से संधि की दरकार में बैठे अन्नदाता

मुजफ्फरनगर में किसानों और बीजेपी नेताओं के बीच संघर्ष में कई घायल

चौपाल न्यूज नेटवर्क
देश में कृषि विधेयक के विरोध में पिछले तीन महीने से दिल्ली की दहलीज पर चल रहे किसान आंदोलन के आंदोलनकारियों और पुलिस के बीच की झड़प की चर्चा अभी देश में चल ही रही है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में किसान और भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच खूनी संघर्ष की खबर सामने आ रही है। भारतीय लोकदल के नेता जयंत चौधरी ने ट्विट कर इस मामले की जानकारी दी है।
श्री चौधरी के ट्विट के मुताबिक मुजफ्फरनगर के शाहपुर थानाक्षेत्र के सोरम गांव में आज किसान और भाजपा बीजेपी कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। दोनों के बीच तीखी नोक—झोंक के बाद नौबत मारपीट तक आ गई, जिसमें कई लोग घायल हो गए। जयंत चौधरी ने ट्वीट करके लिखा- सोरम गांव में बीजेपी नेताओं और किसानों के बीच संघर्ष, कई लोग घायल! किसान के पक्ष में बात नहीं होती तो कम से कम, व्यवहार तो अच्छा रखो. किसान की इज्जत तो करो! इब कानूनों के फायदे बताने जा रहे सरकार के नुमाइंदों की गुंडागर्दी बर्दाश्त करेंगे गांववाले? जयंत चौधरी ने घायल किसानों की फोटो भी शेयर की है। इस मारपीट में कई किसान घायल हो गए हैं घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों पक्षों को समझाया और मामले की छानबीन शुरु कर दी हैं।
गौरतलब है कि नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का गुस्सा भारतीय जनता पार्टी पर भारी पड़ रहा है। नए कृषि कानूनों के फायदे बताने पहुंचे केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान को रविवार को शामली में भारी विरोध का सामना करना पड़ा था। शामली के भैंसवाल में संजीव बालियान और बीजेपी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। ग्रामीणों ने मंत्री के काफिले के आगे ट्रैक्टर सटाकर उनको गांव में घुसने से रोक दिया। इस विरोध पर संजीव बालियान ने कहा था कि 10 लोगों के विरोध करने से और मुर्दाबाद बोलने से मैं मुर्दाबाद नहीं हो जाऊंगा। विरोध के कारण मंत्री का काफिला गांव से लौट गया था। 

Comment As:

Comment ()